Deprecated: Function _register_controls is deprecated since version 3.1.0! Use Elementor\Controls_Stack::register_controls() instead. in /home/u380631772/domains/love104.org/public_html/wp-includes/functions.php on line 5379

Home » Love Shayari » dosti naam nahi sirf doston ke saath rahe ne ka

dosti naam nahi sirf doston ke saath rahe ne ka

ोस्ती नाम नहीं सिर्फ़ दोस्तों के साथ रेहने का..
बल्कि दोस्त ही जिन्दगी बन जाते हैं, दोस्ती में..

जरुरत नहीं पडती, दोस्त की तस्वीर की.
देखो जो आईना तो दोस्त नज़र आते हैं, दोस्ती में..

येह तो बहाना है कि मिल नहीं पाये दोस्तों से आज..
दिल पे हाथ रखते ही एहसास उनके हो जाते हैं, दोस्ती में..

नाम की तो जरूरत हई नहीं पडती इस रिश्ते मे कभी..
पूछे नाम अपना ओर, दोस्तॊं का बताते हैं, दोस्ती में..

कौन केहता है कि दोस्त हो सकते हैं जुदा कभी..
दूर रेह्कर भी दोस्त, बिल्कुल करीब नज़र आते हैं, दोस्ती में..

सिर्फ़ भ्रम हे कि दोस्त होते ह अलग-अलग..
दर्द हो इनको ओर, आंसू उनके आते हैं , दोस्ती में..

माना इश्क है खुदा, प्यार करने वालों के लिये “अभी”
पर हम तो अपना सिर झुकाते हैं, दोस्ती में..

ओर एक ही दवा है गम की दुनिया में क्युकि..
भूल के सारे गम, दोस्तों के साथ मुस्कुराते हैं, दोस्ती

Originally posted 2017-04-23 00:06:47.

7 thoughts on “dosti naam nahi sirf doston ke saath rahe ne ka”

  1. Aankhe kholu to chehra unka ho……………
    Aankhe band karu to sapna unka ho………..
    Mar b jaawu to koi ghum nahi……….
    Agar kafan k jagah dupatta unka ho………..

  2. hi
    “koi deewana kehata hai , koi pagal samajhta hai “….. is this your own work????
    i’ve heard this poem from many people and i really like it.
    just wanted to know abou the first person to translate these beautiful feelings into a necklace of idioms.

  3. he he.. 🙂
    good collection.. I scrolled thru most.. But it remind school time shayari book.. Long time.. now it feels as if i never collected sheir.. good thank your post reminded it to me.

Leave a Comment

Your email address will not be published.